उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री पं. नारायण दत्त तिवारी जी का निधन

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री पं. नारायण दत्त तिवारी जी का  निधन


उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी का  18 अक्टूबर 2018 को  दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स अस्पताल में निधन हो गया। उन्होंने  वर्ष 2002 से 2007 तक उत्तराखंड के तीसरे मुख्यमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल पूरा किया।  नारायण दत्त तिवारी को  वर्ष 2016 में उत्तराखंड रत्न से भी सम्मानित किया गया था।


नारायण दत्त तिवारी जीवन परिचय :
उत्तराखंड के भूतपूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी ( N. D. Tiwari) का जन्म 18 अक्तूबर, 1925 ई. को ग्राम बल्यूरी, पदमपुरी ज़िला नैनीताल में हुआ था। उनके पिता पूरन चंद तिवारी भी स्वतंत्रता सेनानी थे। 1942 के 'भारत छोड़ो आंदोलन' में गिरफ्तार कर लिए गये। जेल से छूटने पर उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से अपनी शिक्षा पूरी की। तभी उन्हें देश के प्रमुख नेताओं जवाहरलाल नेहरू, महामना मदनमोहन मालवीय, आचार्य नरेंद्र देव आदि के आने का अवसर मिला और वे समाजवादी बन गए। उन्होंने अपना राजनीतिक जीवन कुमाऊं के श्रमिक संघों के संगठन में लगकर आरम्भ किया। तिवारी जी की शिक्षा हल्द्वानी, नैनीताल और बरेली में हुई. बाद में अपनी पढाई पूरी करने के बाद वे पिता पूर्णानंद की तरह आजादी के आन्दोलन में कूद गए. सन 1942 के आन्दोलन के ब्रिटिश सरकार के खिलाफ तीव्र आन्दोलन करने के कारण नैनीताल जेल में डाल दिए गए. इस जेल में पिता और पुत्र एक साथ रहे, लगभग 15 महीने की सजा के बाद तिवारी जी सन 1944 को जेल से बाहर आये.

SHARE THIS

0 comments: