उत्तराखंड सामान्य ज्ञान 2018 :- राज्य से जुड़े तथ्यों पर आधारित प्रश्न -उत्तर

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान 2018 :- राज्य  से जुड़े तथ्यों पर आधारित प्रश्न -उत्तर 

इस उत्तराखंड सामान्य ज्ञान 2018 प्रश्न -उत्तर सीरीज में कुछ नए प्रश्नो का संकलन है।  राज्य स्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं  में उत्तराखंड सामान्य ज्ञान से जुड़े तथ्यों पर  प्रश्न पूछे जाते हैं. अतः इस लेख में हम  राज्य से जुड़े तथ्यों पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी प्रस्तुत कर रहे हैं जो उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UKSSSC ) तथा  राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी है. कमेंट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया दें।



Uttarakhand GK  2018

प्रश्न : 1 पुष्पभद्रा और गगार्ंचल नदियों को संगम के बाद किस नाम से जाना जाता है  ?

उत्तर : गौला नदी

व्याख्या : काठगोदाम से तीन किलोमीटर नैनीताल की ओर बढ़ने पर रानीबाग नामक अत्यन्त रमणीय स्थल है। कहते हैं यहाँ पर मार्कण्डेय ॠषि ने तपस्या की थी।रानीबाग के समीप ही पुष्पभद्रा और गगार्ंचल नामक दो छोटी नदियों का संगम होता है। इस संगम के बाद ही यह नदी 'गौला' के नाम से जानी जाती है। गौला नदी के दाहिने तट पर चित्रेश्वर महादेव का मन्दिर है।


प्रश्न : 2  भगवान शिव के जटा-सिर रूप की पूजा पंच केदार के किस मंदिर में की जाती है ?

उत्तर :  कल्पेश्वर

व्याख्या : शिव के विभिन्न रूपों  मुख - रुद्रनाथ, जटा-सिर - कल्पेश्वर, पेट का भाग - मध्यमेश्वर और हाथ - तुंगनाथ में पूजे जाते हैं। केदारनाथ सहित ये चार स्थल ही पंचकेदार के नाम से जाने जाते हैं।

-

प्रश्न : 3 एक हथिया नौला पर्यटक स्थल उत्तराखंड में कहाँ है ?

उत्तर :  चम्पावत

व्याख्या : बालेश्वर मंदिर समूह , रानी चौपड़, विभिन्न नौलों धारों धर्मशालाओं का निर्माण चंदशासन काल के दौरान हुआ। बालेश्वर मंदिर बनाने वाले कारीगर का एक हाथ जब काट दिया तो उसने अपने दूसरे हाथ से ही मायावती आश्रम को जाने वाले मार्ग पर नौले का निर्माण कि या। जिसे एक हथिया नौला कहते हैं।


प्रश्न : 4 बागेश्वर में स्थित महरूड़ी  कस्तूरी मृग प्रजनन केंद्र की स्थापना कब हुई ?

उत्तर : सन्न 1977

व्याख्या :  यह पिथौरागढ़ और बागेश्वर जनपद की सीमा पर महरूड़ी गांव में  स्थित है।


प्रश्न : 5  गाँधी जी की किस शिष्या ने ऋषिकेश में पशुलोक  की स्थापना की ?

उत्तर :  मीरा बहन


व्याख्या :  मीरा बहन (22 नवंबर 1892 -20 जुलाई 1982) . मीरा बहन का वास्तविक नाम मैडेलिन स्लैंड था।  उन्होंने अपना जीवन मानव के विकास, गांधीजी के सिद्धांतो के प्रचार एवं भारत के स्वतंत्रता संघर्ष हेतु समर्पित कर दिया। उन्हें 1982 में पदम् विभूषण से सम्मानित किया गया था।


प्रश्न : 6 उत्तराखंड में उगने वाली जड़ी बूटी जिसे स्थानीय भाषा में भांग के नाम से जाना जाता है का वानस्पतिक नाम क्या है ?

उत्तर :  कैनेविकस सैटाइवा

व्याख्या : भांग के रेशेे का इस्तेमाल वाहन, विमान, कपड़ा, फर्निचर, कागज और पल्प उद्योग में किया जाता है। भांग से कैंसर, मधुमेह, ग्लूकोमा, मिर्गी जैसे रोगों की दवा बनाई जाती है।

प्रश्न : 7 म्यूजियम ऑफ़ फाइन आर्ट्स बोस्टन में उत्तराखंड के प्रसिद्ध चित्रकार मोला राम की कितनी कलाकृति संग्रहित है ?

उत्तर :  दो

व्याख्या : म्यूजियम ऑफ़ फाइन आर्ट्स बोस्टन में चित्रकार मोला राम की 2 कलाकृतियाँ संग्रहित है। इसमें से एक वीणा बजाती नारी तथा दूसरी अभिसारी नायिका


प्रश्न : 8 उत्तराखंड की कौन  सी जनजाति महासू देवता की पूजा  करती है ?

उत्तर :  जौनसारी जनजाति

व्याख्या : महासू देवता का  मन्दिर उत्तराखंड के देहरादून जनपद के हनोल, चकराता में स्थित है।  महासू देवता को जौनसारी जनजाति का कुल देवता माना जाता है


प्रश्न : 9 टिहरी मे ऐतिहासिक कैलापीर देवता का मेला  किस स्थान पर लगता है ?

उत्तर :  बूढाकेदार

व्याख्या : इसे कपिल भैरव के नाम से भी जाना जाता है।श्री गुरू कैलापीर देवता ही एक ऐसा देवता है जो गढ़वाल व कुमांऊ का राजमानी देवता है। जिसके कुमांऊ मण्डल में मुख्य क्षेत्र डोभा, चाँदपुर, चम्पावत व पिथौरागढ़ है। व आज भी इसकी गाथाओं में सात लाख सलाण, नौ लाख दुभाग क्षेत्र में इसकी पूजा का वर्णन मिलता है।


प्रश्न : 10  चमोली जनपद में स्थित जोशीमठ औली रोपवे की शुरुआत किस   वर्ष हुई ?

उत्तर : वर्ष 1994 में
 
व्याख्या : जोशीमठ औली रोपवे एशिया की दूसरी सबसे लम्बी रोपवे है। जबकि सबसे जम्मू कश्मीर में स्थित गुलमर्ग गंडोला रोपवे एशिया की सबसे लम्बी रोपवे है।



प्रश्न : 11 1928 में गठित गढ़वाल सर्वदलित परिषद  का गठन किसने  किया ?

उत्तर : जयानंद भारती

व्याख्या : गढ़वाल सर्वदलित परिषद के अलावा डोला पालकी आंदोलन भी जयानंद भारती द्वारा दलितों के लिए चलाया था




प्रश्न : 12 उत्तराखंड की किन दो जनजातियों को आदिम जनजाति समूह में  रखा गया है ?


उत्तर :  बुक्सा एवं राजी जनजाति


व्याख्या : उत्तराखण्ड में निवासरत् भोटिया, थारू, जौनसारी,बुक्शा एंव राजी को वर्ष 1967 में अनुसूचित जनजाति घोषित किया गया था। उक्त पाॅच जनजातियों मे बुक्सा एवं राजी जनजाति आर्थिक, शैक्षिक एवं सामाजिक रूप से अन्य जनजातियों की अपेक्षा काफी निर्धन एवं पिछड़ी होने के कारण उन्हें आदिम जनजाति समूह की श्रेणी में रखा गया है।



प्रश्न : 13 गिंदी  मेला उत्तराखंड  के किस जिले में आयोजित होता है ?

उत्तर : पौड़ी गढ़वाल

व्याख्या :  गिन्दि मेला भटपुरी देवी के मंदिर मे लगता है,हर साल मकर संक्रांति के दिन पौड़ी गढवाल जिले के यमकेश्वर ब्लॉक के थल नदी और डाडामंडी में गिंदी का मेला लगता है. खासबात यह है कि मकर संक्रांति के दिन यहां रग्बी जैसा खेल खेला जाता है, जिसको 12 से 14 इंच व्यास की चपटी चमड़े की गेंद से खेला जाता है. हालांकि, रग्बी में कुछ नियम होते हैं, पर यहां कोई नियम नहीं. छीना-झपटी में जो पक्ष ताकतवर होता है वह खेल जीत लेता है.


-
प्रश्न : 14 उत्तराखंड मे चाय की खेती को व्यापक स्तर पर किसने प्रोत्साहित किया ?


उत्तर : रायले


व्याख्या : बिशप हेपर ने चाय की खेती को 1824 मे शुरू किया था जबकि रायले ने 1835 मे चाय की खेती को व्यापक स्तर पर प्रोत्साहित किया था













SHARE THIS

1 comment: