उत्तराखंड राज्य की प्रमुख कल्याणकारी योजनाएँ

उत्तराखंड राज्य की प्रमुख कल्याणकारी योजनाएँ






➤ राज्य में मेधावी एससी/एसटी/ओबीसी छात्रों के लिए संचालित विद्यालय है – एकलव्य आवासीय  विद्यालय यह विद्यालय 3 अगस्त 2010 में शुरू किया गया। यह विद्यालय  बोक्शा राजी थारू भोटिया जोनसारी जन जातियों के लिए शुरू किया गया है।



➤ 2004 से प्रारम्भ कस्तूराबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में शिक्षा लेने के लिए पात्र है - एससी/एसटी/ओबीसी और अल्पसंख्यक बालिकाएँ
 एससी/एसटी के निर्धन परियारों की पुत्रियों के विवाह पर राज्य सरकार द्वारा दिया जाने वाला अनुदान है – 50000

➤ शिल्प कार्यों से जुड़े एससी/एसटी हेतु संचालित योजनाएँ हैं – शिल्प ग्राम योजना

➤एससी/एसटी के बच्चों को 1-12 तक अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा देने के लिए विद्यालय है – राज्यकीय आर्दश विद्यालय हरिद्वार 

➤ अल्पसंख्यकों के लिए अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय और अल्पसख्यंक कल्याण निधि का गठन किया गया – 2012

➤18-25 वर्ष की गरीब अल्पसंख्यक महिलाओं के स्वरोजगार के लिए संचालित प्रशिक्षण योजना है – रहबर

➤गरीब अल्पसंख्यकों को स्वरोजगार व उच्च शिक्षा हेतु संचालित योजना – मौलाना आजाद एजुकेशनल फाइनेंस फाउडेशन योजना (2012-2013)

➤ 19 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को पहले दो जीवित प्रसव के समय आर्थिक लाभ पहँचाने हेतु योजना है – जननी सुरक्षा योजना

➤गर्भवती महिलाओं को निःशुल्क उपचार उपलब्ध कराने वाली योजना है- वंदे मातरम्  (2005)


 ➤लैंगिक विषमता को दूर करने के लिए प्रारम्भ योजना – नन्दा देवी कन्या योजना 2009 (इस योजना  का नाम 2014 में हमारी कन्या हमारा अभियान कर दिया गया इसमें जन्म के समय 1500 रूपये की एफडी की जाती है।)

➤ मोनाल परियोजना है – 11-18 वर्ष की किशोरियों के कौशल निमार्ण से संबंधित




➤सभी बीपीएल इंटरपास बालिकाओं को 50000 रूपये उपलब्ध कराने वाली योजना है – गौरा देवी कन्या धन योजना

 ➤योजान 108 प्रारम्भ की गई – 15 मई 2008 (इसका पूरा नाम पण्डित दीनदयाल उपाध्याय 108 आपात कालीन चिकित्सा सेवा योजना)

 ➤निःशुल्क चिकित्सा परामर्श योजना है – 104

 ➤पूर्व सैनिकों  को आवास बनाने के लिए भूमि उपलब्ध कराने वाली योजान है – जय जवान योजना

 ➤नगरीय क्षेत्रों को स्वच्छ रखने के लिए चलाई जा रही योजना है – डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी निर्मल शहर योजना



उत्तराखंड जॉब 2017  और उत्तराखंड सामान्य ज्ञान के लिए फेसबुक पर अपडेट प्राप्त करें  >>

 LIKE US ON FACEBOOK

SHARE THIS

0 comments: