Gaura Devi And Chipko Movement Of Uttarakhand

Gaura Devi And Chipko Movement Of Uttarakhand

Dear Readers 

Today we are proving you important notes on Chipko Women Gaura Devi And an overview about Chipko Movement of Uttarakhand .



उत्तराखंड जॉब अपडेट 2017 और उत्तराखंड सामान्य ज्ञान के लिए लाइक करें


 
गौरा देवी चिपको वूमन

जन्म :- 1925 
जन्म स्थान – लाता गांव चमोली  
मृत्यु :- 4 जुलाई, 1991 

उपलब्धियां : ➢ चिपको वुमन के नाम से विश्व भर में प्रसिद्धि , 
                    चिपको आंदोलन की जननी 
                    भारत सरकार द्वारा प्रथम वृक्ष मित्र पुरस्कार से सम्मानित 
 

चिपको वूमन  के नाम  से विश्व भर में प्रसिद्ध गौरा देवी  जन्म  चमोली  जिले के लाता गाँव में हुआ था । 26 मार्च 1974 में गौरा देवी के नेतृत्व में चिपको आन्दोलन की शुरुवात हुई ,  चिपको आंदोलन का प्रमुख लक्ष्य  पर्यावरण संरक्षण था.  हर भरे जंगल को कटने से बचाने के लिए गौरा देवी  और अन्य महिलाएं पेड़ो पर चिपक गई थी। यही से  चिपको आंदोलन  की शुरुवात हुई।  आज यह आंदोलन अंतरराष्ट्रीय स्तर  पर पर्यावरण संरक्षण की मिसाल है।


चिपको आंदोलन : 

चिपको आंदोलन के पीछे एक पारिस्थितिक  पृष्ठभूमि है। सत्तर के दशक ( वर्ष 1970 ) में अलकनन्दा  में भयंकर बाढ़ आई, जिससे यहां के लोगों में बाढ़ के कारण और उसके उपाय के प्रति जागरुकता बनी । सन्न 1974 में वन विभाग द्वारा रैंणी गाँव के जंगल में पेड़ो को काटने की बोली लगी । और लगभग 2451 पेड़ों को काटने  के लिए चिन्हित किया गया। जिसका गौरा  देवी और उनके साथियों ने जमकर विरोध किया।   26 मार्च 1974 को जंगलों के कटान को रोकने के लिए गौरा देवी के  नेतृत्व में महिलाओं ने इसका विरोध किया । और पेड़ो को  बचाने के लिए उनसे लिपट ( चिपक )  गयी।   पर्यावरण को बचाने का यह सराहनीय प्रयास   पुरे विश्व भर में चिपको आन्दोलन के नाम से प्रसिद्ध  हो गया  ।



कुछ  संभावित प्रश्न गौरा देवी और  चिपको आंदोलन  से :

➢ गौरा देवी का जन्म स्थान कहाँ है - लाता चमोली 

➢ चिपको आंदोलन की शुरुवात कोन  से गाँव से हुई - रैणी गाँव चमोली

➢ चिपको आंदोलन क्यों चलाया गया था - वन कटान को  रोकने के लिए

➢ चिपको आंदोलन की शुरुवात कब हुई - 26 मार्च 1974

➢ चिपको आंदोलन की प्रथम सूत्रधार महिला, प्रथम वृक्ष मित्र सम्मान से सम्मानित – गौरा देवी

भारत सरकार द्वारा गौरा देवी को प्रथम वृक्ष मित्र पुरस्कार किस वर्ष दिया गया - 1986

  चिपको आंदोलन के प्रणेता  - गौरा देवी

➢ उत्तराखंड में गौरा देवी कन्या धन योजना कब आरम्भ की गयी - 2009





 


SHARE THIS

0 comments: